Wednesday, December 14, 2011

पर्यावरण संरक्षण की अलख जगाते राजेश

बीस साल से जारी है मुहिम

  (चंदन बंगारी रामनगर)

कार्बेट नेशनल पार्क में कार्यरत नेचर गाइड राजेश भटट बीते 20 सालो से वन एंव वन्यजीव बचाने की मुहिम में जुटे हुए है। उनकी अगुवाई में रेनबो संगठन पर्यावरण संरक्षण के 48 कार्यक्रमों को सालभर त्यौहार की तरह मनाता है। करीब 200 प्रकार के वन्यजीवों व परिंदों की आवाज निकालने का हुनर रखने वाले 41 वर्षीय राजेश व्याक्तिगत व सरकारी बुलावे पर प्रदेश के अलावा दूसरे राज्यों के सैकड़ों लोगों को बेहतर गाइडिंग के गुर सिखा चुके है।

कार्बेट पार्क में बच्चों को पर्यावरण संरक्षण की जानकारी देते राजेश
  वर्ष 1988 में हाईस्कूल में पढ़ाई के दौरान ही उन्होंने वाद-विवाद प्रतियोगिता आयोजित कर पर्यावरण संरक्षण का अभियान शुरू किया। 1990 में तकनीकी कोर्स करने के बाद उन्होंने दिल्ली व हरियाणा में नौकरी की। मगर पर्यावरण के प्रति लगाव एक साल बाद ही उनको वापस खींचकर रामनगर ले आया। जिसके बाद वह जूनूनी रूप से वन्यजीव व पर्यावरण संरक्षण जागरूकता अभियान में जुट गए। डबल एम.ए करने कर 1995 में कार्बेट में नेचर गाइड बनने के साथ ही उन्होंने स्कूली बच्चों का रेनबो संगठन बनाया। रेनबो ने सीटीआर से सटे इलाकों में जागरूकता कार्यक्रमों को क्रमवार आयोजित करने के साथ नगर में पर्यावरण, पृथ्वी, जलसंरक्षण जैसे दिवसों को मनाने की परंपरा डाली। राजेश रेनबो के जरिए बगैर किसी से मदद के अभी तक हजारों स्कूली बच्चों को प्राकृतिक भ्रमण, पक्षी अवलोकन कैम्प कराने के साथ ही सैकड़ों पर्यावरण जागरूकता सेमिनार, नुक्कड़ नाटक, विभिन्न प्रतियोगिताएं, मेलों व रामलीला में जागरूकता काउंटर, रैली कर चुके है। उन्होंने दिल्ली, गाजियाबाद, लखनऊ के स्कूलों में भी स्लाइड शो के जरिए पर्यावरण संरक्षण बचाने की अपील की। उनके बनाए रेनबो संगठन के सदस्य देश के कई बड़े शहरों में इसकी शाखाएं के मार्फत वन्यजीवों व पर्यावरण बचाने का अभियान चला रहे है। व्यक्तिगत रूचि पर उन्होंने उत्तराखंड के बिनसर, नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान, पवलगढ़, छोटी हल्द्वानी सहित हिमांचल प्रदेश व जम्मूकश्मीर में स्थानीय समुदाय पर आधारित पर्यटन प्रशिक्षण देकर सैकड़ों युवाओं को स्वरोजगार व संरक्षण से जोड़ा है। उन्होंने वन विभाग के बुलावे पर वन्यजीव प्रशिक्षण केंद्र कालागढ़ में दर्जनों प्रशिक्षण कार्यक्रमों में रेंजर व वनरक्षकों सहित आईटीबीपी के अधिकारियों को भी वन्यजीव प्रबंधन के गुर सिखाए है।

वजूद बचाने को पर्यावरण संरक्षण जरूरी¨ राजेश


रामनगर। आज भी गाइड के साथ ही प्रशिक्षक के रूप मे राजेश भटट की काफी मांग रहती है। वह कहते है कि रूपये व लोकप्रियता कमाने को उन्होंने कभी काम नही किया। प्रकृति से दूर होते लोगों को वजूद बचाने को अपनी जड़ों की तरफ देखने के साथ ही इसका संरक्षण करना होगा। रेनबो से छोटे बच्चों को जोड़ने का केवल इतना मकसद है कि यही बच्चे बड़े होकर पर्यावरण संरक्षण की दिशा में दूसरों को ही जगाएंगे।


 

Thursday, December 8, 2011

बुजुर्गों के पदचाप सुनाई देते हैं अभी भी इन रास्तों में......


गढ़वाल से कुमाउं यात्रा
  केशव भट्ट


घेस गांव

जब सड़कें नहीं थी... विकास के नाम का ताना-बना बुना नहीं गया था.... यात्राऐं व दूरीयां पैदल नापी जाती थी। इन यात्राओं को समय नहीं बांधता था। लोग ठहरने के बाद अपनी यात्राओं के किस्से सुनाया करते थे। सुनने वाले बड़े ही धैर्य से उनके किस्सों को भावी पीढ़ियों के लिए कागजों में उकेरते चले जाते थे। रास्ते तो अभी भी अपनी जगह पसरे हजारों कहानियां कहते प्रतीत होते हैं। इतिहास बन गए इन रास्तों पे कभी-कभार किसी के चलने का सुकून पथिक के साथ ही रास्तों को भी सायद मिलता ही होगा। गढ़वाल व कुमांउ के हिमालय की तलहटी में पसरे बुग्याल अपने साथ कई सभ्यताओं को भी जोड़े हुवे हैं। ट्ैकिंग के बहाने मैं अपने साथियों के साथ इन सबसे रूबरू होते आया हूं। सड़क से दूर पसरे इन गांवों में अभी शति पसरी मिलती है। गढ़वाल व कुमांऊ को जोड़ने वाले पारम्परिक हिमालयी रास्तों से आना-जाना तो अब गये जमाने की बात सी हो गई है। कभी कभार किसी बुजुर्ग का जाना भी होता था तो, मशनों ने हिमालय की जड़ें खोद जीपों का रास्ता बना उनकी इन पौराणिक व साहसिक यात्राओं पर विराम सा लगा दिया है।        गढ़वाल व कुमांउ के हिमालयी जन-जीवन की कश्टप्रद जिंदगीं के बारे में सुना था कई बुजुर्गों से। मन में कहीं एक लालसा भी थी इन क्षेत्रों में रचे-बसे घाटियों की खूबसूरती को देखने की। इस बीच सीएस नपलच्याल बागेष्वर के नए जिलाधिकारी बने। नपलच्यालजी मुख्यतः व्यास घाटी के नपलच्यू गांव के हैं,

दुलाम बुग्याल
व्यास, दारमा व जोहार घाटियों के वाषिंदे अधिकतर खुषमिजाज किस्म के ही मिलते हैं। इन घाटियों से निकले कई जाबांजों ने एवरेस्ट सहित कई दुर्गम पर्वतों का माथा चूमा है। जोहार का मिलम, दारमा का गो व व्यास का कुट्टी गांव तक पहुंचने के लिए प्रकृति हर तरह से परीक्षा लेती है। तिब्बत से सटे इन घाटियों की बीहड़ता ने ही सायद इन्हें जूझारू बनाया होगा। व्यास घाटी की बातचीत में नपलच्यालजी ने अभी तक के अपने टै्कों की लिस्ट ही खोल दी...... ‘‘जब चमोली में था तो ताल, उत्तरकाषी में द्यारा बुग्याल, दारमा का दातू गांव.......। अभी एक पुराना रास्ता भी तो है जो गढ़वाल के देवाल से कुमाउं में कहीं मिलता है....। घेस में कहीं मेरे एक मित्र हैं रिटायर्ड कैप्टन बिस्टजी। उन्होंने एक हर्बल गार्डन भी बनाया है सायद। देहरादून कभी वो मिले थे तो उन्होंने बताया था। बहुत खुबसूरत रास्ता है वहां से कुमाउं के लिए....... वो बता रहे थे। यदि संभव हो तो पता करो हम भी हो आते हैं उस पुराने रास्ते से।’’ नपलच्यालजी कई देर तक बोलते-बताते खो से गए अपनी पुरानी यादों में। उनसे बात करने पर, हिमालय व उसके जनजीवन को जानने व समझने की उनकी लालसा के पीछे एक प्रषासक कम बल्कि एक आम आदमी का बीता व झेला दर्द मुझे ज्यादा दिखा। बहरहाल् मैंने इस पौराणिक रास्ते को होली में टै्किंग के लिए चुन ही लिया। डीएम साहब को ये कह कर मनाया कि पहले हम इस रास्ते की रैकी करके देख आते हैं आप फिर बाद में रूबरू होना इस ट्ैक बावत्।     

बर्फीला रास्ता
  इस बार मेरे साथी बने जीवट व हरफनमौला दरबान सिंह। इस यात्रा में भीड़ कम ही रखने का इरादा था। यात्रा में बुजुर्गों के पदचापों को सुनने का एक सपना पाला था। और वो सपना खामोष, प्रकृति के साथ आत्मसात होकर ही पूरा हो सकता था। इस ट्ैक के बारे में जब जानकारी जुटाने लगे तो ताज्जुब हुआ कि इस बारे में सभी आधे-अधूरी ही जानकारी रखते हैं। हमारे माउंटेनियर साथी सुमित गोयल ने जरूर एक कंटूर मैप के साथ ही टैंट भेज थोड़ी सुविधा कर दी। देवाल में अपने साथी हेम मिश्रा से इस बावत् जानकारी जुटाने के लिए मिन्नतें भी की। लेकिन अंत में एक नक्षा व आधा-अधूरी जानकारी ही जुट पाई। इस बीच कौसानी से मानवेष जोषी को भी यात्रा में जगह दे दी गई। इस यात्रा के लिए कम से कम लेकिन जरूरी सामान जुटा हम चतुर्दषी की सुबह प्रदीप की जीप में देवाल को निकल पड़े। ये एक ऐसी यात्रा थी जिसके बावत् कोई भी कुछ भी नहीं जानता था। देवाल में हेम मिश्राजी को फोन किया तो थोड़ी देर में वो सकुचाते हुवे से आते दिखे। कुर्ता-पायजामा उनका पानी में थोड़ा भीगा सा दिखा तो षर्माते हुवे बोले कि गली में से आ रहा था तो उप्पर से रिष्ते की षाली ने होली है कह कर पानी डाल दिया। हमें जल्दी थी। रास्ते बावत् पूछा तो उन्होंने बताया कि जजमानी की वजह से उन्हें गांवों में सभी जजमान जानते हैं। वो मदद कर देंगें। वो सड़क मार्ग ही बता सके, पैदल के बावत् उन्होंने हाथ खड़े कर दिए। घेस का रास्ता पूछ हम देवाल को पीछे छोड़ चले। देवाल से घेस व हिमनी के लिए प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत् सड़क बन रही है। ठेकेदार जेसीबी मषीनों से पहाड़ों को काट-काट कर सड़क बनाने में जुटे पड़े हैं। अभी इस सड़क में चलने के लिए विभाग ने परमिषन दी नहीं है लेकिन बेरोजगारी की मार के चलते कुछ युवाओं ने इस मार्ग में जीपें दौड़ानी षुरू कर दी हैं। गांव के बुजुर्ग भी खुष हैं। इस नई बन रही सड़क में हिचकोले खाती जीप में बैठने के जोखिम में उन्हें डर नहीं लगता। पोपली हंसी में कहते हैं कि, ‘देवाल बाजार आने-जाने में तीन-चार दिन तो लग ही जाते थे पहले...... अब इन छोरों की घोड़ा गाड़ी में तो सुबह जाओ और साम को घर आ जाओ।’
     घटगाड़ के किनारे से होते हुए करीब 15 किमी चलने के बाद प्रदीप ने ब्रैक लगा पूछा कि किधर को जाना है। बाहर निकले तो आगे दो रास्तों के किनारे प्रधानमंत्री सड़क परियोजना का एक बड़ा सा बोर्ड दिखा। इसके मुताबिक मार्च 2007 से इस सड़क का निर्माण भारत भूमि विल्डर के द्वारा किया जा रहा है। कुंडर बैंड से घेस की दूरी 25.66 किमी। दूर तक कोई भी हमें जानकारी देने वाला नहीं मिला तो फिर चल पड़े घेस की ओर। आगे कई जगहों पर सड़क काफी खतरनाक व चढ़ाई वाली थी। प्रदीप को बस एक ही डर सता रहा था कि वापसी में यदि कोई परेषानी आई तो वो अकेले क्या करेगा। 

  
एक घंटे के बाद एक बेतरतीब मोड़ पर तीन जीपें खड़ी थी। दूसरी ओर पर एक गोठ में दुकान दिखी। जीप रोक ली। आगे होल्यारों का एक झुंड भी होली गाते दिखा। युवा दुकानवाले राजू से मालूम हुआ कि ये घेस है। बिश्टजी के बावत् जानना चाहा तो पता लगा कि उनका इलाका हम तीन किमी पीछे छोड़ आए थे। अपने रास्ते के बावत् हमने जानने की कोषिश की तो जो जानकारी तीन-चार लोगों ने हमें दी वो खिचड़ीनुमा निकली। सड़क का काम आगे हिमनी गांव को जारी था। प्रदीप को कुछ आगे तक छोड़ने की मिन्नत की तो उसने होल्यारों के झुंड की ओर बेबसी से नजर डाली। हम दुकान वाले की षरण में फिर से गए और उसे अपनी यात्रा का महत्व भी बताया कि हम इस क्षेत्र की पूरी जानकारी बागेष्वर के डीएम साहब को देंगे। इस क्षेत्र की यात्रा वो करना चाहते हैं। युवा दुकानदार राजू ने लंबी हांक लगाई। एक अनवाल नुमा लड़का दौड़ कर आया। उसने बताया कि वो उप्पर बुग्यालों में कई बार भेड़ बकरियों के साथ जाते रहता है। बमुष्किल हम उससे ये ही जान सके कि दुलाम बुग्याल से आगे थोड़ा खतरनाक सा रास्ता कुमाउं को जाता है। होल्यारों का झुंड प्रदीप से होली की दक्षिणा के लिए इंतजार कर रहा था। कुछ दक्षिणा दे हम आगे हिमनी की ओर बढ़ चले। दो किमी के बाद सामने की पहाड़ी मंे एक जेसीबी पहाड़ काटते दिखी। आगे परेषानी जान हमने अपना साजो-सामान ले, प्रदीप को वापस लौटा दिया। करीब किलोमीटर भर चलने के बाद सड़क खत्म हो गई। उप्पर को एक पतले से रास्ते से हिमनी गांव को लक्ष्य किया। नीचे जेसीबी की गर्जना सुनाई दे रही थी। पेट के खातिर जेसीबी चालक इस दुर्गम पहाड़ को काट सड़क बनाने में जुटा पड़ा था। हिमनी गांव की सीमा षुरू हो गई थी। सामने से अपने खच्चरों के साथ मस्त सा एक युवक आते दिखा तो उसे ही रोक हिमनी गांव की पूछताछ षुरू कर दी। हिमनी गांव का ही हरीष दानू था वो। उससे पता लगा कि घेस में 150 व हिमनी में 80 मवासे करीब हैं। हिमनी में जूनियर हाईस्कूल के बाद आगे की पढ़ाई के लिए घेस व देवाल की षरण लेते हैं। लक्षम सिंह प्रधानपति के वहां लगे फोन नं. 01363214219 पर ही बाहर की कुषल-क्षेम मालूम होती है। हरीष से विदा ले हम आगे बढ़े। हिमनी गांव नीचे को काफी विस्तार लिए हुवे है। गांव में जाने की लालसा को त्यागना पड़ा।      सामने बुग्यालों में आग लगने से धुंवे के बादल उठते दिख रहे थे। ये आग षिकारियों ने लगाई थी। इन जगहों में माफियानुमे षिकारियों का राज होता है। खेतों के बीच में बने रास्ते से दुलाम बुग्याल की ओर निकल पड़े। ग्रामीणों के मुताबिक दुलाम चार किमी की दूरी पर है। धूप में तेजी थी। खेतों के पार जंगल के झुरमुट में जाते ही गर्मी से निजात मिली। कुछ देर चलने पर सामने साठ डिग्री की ढलान लिए दुलाम बुग्याल बर्फ से लदकद दिखा। नीचे कुछ खरक दिखीं। सूर्यास्त होने में वक्त देख दुलाम के षीर्श में ही रूकने का इरादा किया। पावडर बन चुकी बर्फ में चढ़ाई में गिरते-पड़ते धार में पहुंचे तो सूर्यास्त काफी सुंदर लगा। दूर घेस गांव दिख रहा था। टैंट लगा, खाने की जुगुत कर सो गए। सुबह सामान समेट आगे की अनजान राह में जाने के लिए सामने देखा तो बुरांष के झुरमुटों में दो रास्ते दिखे। एक उप्पर को दूसरा नीचे को जाता हुवा। नीचे का रास्ता कुछ ज्यादा चला दिखने पर उसमें ही चल दिए। ज्यादा दूर नहीं चले थे कि रास्ते ने दम तोड़ दिया। आगे गहरी खाई थी। वापस मुड़ दूसरे रास्ते को पकड़ा। बुरांष रास्ते के नीचे को आ गए। उप्पर को बुग्याली घास दिखने लगी। हम धीरे-धीरे उंचाई की ओर बढ़ रहे थे। अब पहाढ़ की ढ़लान तीखी होने लगी थी। रास्ते से ढ़लान का नीचे को अंत कई किलोमीटरों तक का होगा। हम सभी सावधानी से चल रहे थे। उप्पर चील मडराती दिखी। एक पल को ख्याल आया कि कहीं ये इंतजार तो नहीं कर रही है कि क्या मालूम कोई इस तीखे ढ़लान में गिरे तो कुछ दिनों का भोजन का इंतजाम हो जाए ! सचमुच इस ढ़लान में यदि कोई गिरता तो उसके पास पहुंचना काफी मुष्किल होता। और यदि पहुंच भी जाते तो उसे बचाकर रास्ते में ला पाना सायद संभव कम ही पाता। इस तरह के रास्तों के लिए तो ग्रामीणों का कहना होता है कि, ‘‘साहब ! बस दो-चार बुरांष के फूल-पत्ते तोड़ नीचे को चढ़ा कर माफी मांग लेनी हुवी।’’
 मार्तोली बुग्याल
 कुछ दिन पहले गिरी बर्फ में ढक चुके रास्ते का अनुमान सावधानी से लगाना पड़ रहा था। कई बार रास्ते को छोड़ना पड़ा। हमारे साथी दरबान, हाथ में बड़ी लकड़ी की लाठी पकड़े आगे सावधानी से एक-एक कदम रख रास्ता खोलने में जुटे पड़े थे। होमकुनी बुग्याल को पार करने के बाद निरणीधार के पास पढ़ाव के अवषेश से दिखे तो वहां बिछे पाथरों में सभी पसर गए। षीर्श में होमकुनी बुग्याल फैला था। आसमान में टकटकी लगाई तो चील अब नहीं दिख रही थी। हमसे उसकी उम्मीद टूट गई थी। देर तक बुग्यालों को देखते रहे। आग लगने से बुग्यालों की घास जल गई थी। ये करामातें षिकारियों की ही रहती हैं। कस्तुरी हिरन, तंेदुवा, भालू, मोनाल आदि के षिकार के लिए ये बुग्यालों में आग लगा देते हैं। आग से भागते वन्य जीव इनकी गोलियों का षिकार हो जाते हैं। षिकारियों पर कहीं भी कोई लगाम वन विभाग आज तक भी नहीं लगा सका है। इन्हें बचाने वाले भी वन विभाग के ही कुछ कारिंदे होते हैं। साल में एक-आध बेचौलिये को कुछ तेंदुवे की खालों या यारसा गंबों के साथ पकड़ वन विभाग भी वर्शों से अपनी फाईल भरते आ रहा है। इनके वन कानून सीधी-साधी जनता के लिए ही होते हैं।
      आसमान में बादल का एक छोटा सा टुकड़ा देख कंधों मे रूकसैक को डाल लिया। हवा भी तीखेपन का एहसास करा रही थी। घंटे भर चलने के बाद एक जगह पर काफी सारे कलात्मक पत्थरों का जमघट ‘कैरोन’ का सा एहसास करा रहे थे। नक्षे में देख अनुमान लगाया कि इसे माणिक्य देवधार होना चाहिए। स्थानीय भाशा में इसे मिनसिंग नाम से भी बुलाते हैं। कुमाऊं व गढ़वाल की ये सीमा रेखा है। नीचे को तीव्र ढलान के बाद फैले मार्तोली बुग्याल में खरक बने दिख रहे थे। घंटे भर की मेहनत के बाद मार्तोली में पहुंचे। सूरज भी ढल रहा था। मार्तोली में पढ़ाव डालने का विचार आगे नया कुछ देखने की चाह में त्यागना पड़ा। पानी के छोटे-बड़े कुंडो के किनारे अभी बर्फ जमी थी। यहां से कई जगहों को रास्ते बिखरे थे। दूर पर्वतश्रंखलाओं में धाकुड़ी के पास का चिल्ठा बुग्याल दिखने पर उसी की दिषा में अनुमान लगा दाहिने को उतरते चले गए। मार्तोली बुग्याल के खत्म होते ही बुराषं का घना जंगल से सामना हो गया। अधखिले बुराषं सुंदर दिख रहे थे। रास्ते का कहीं ओर-छोर नहीं दिख रहा था। नक्षे के अनुसार हम तलबड़ा या भराकानी गांव की सीमा में कहीं भटक रहे थे। मन में आज गांव में रहने की कुलबुलाहट थी। घंटे भर की यात्रा के बाद बंजर खेतों में पहुंचे। जानवरों को हांकने की आवाज सुनाई पड़ी तो लगा कि पहुंच ही गए। बकरियों के झुरमुट को ठेलती बालिका को देख कुछ पूछने की सोची ही थी कि मॉं की आवाज सुनते ही वो भाग गई। नीचे पेड़ से चारे के लिए टहनियां काट रही उसकी मॉ से नजदीक के गांव के बारे में पूछा तो उसने नीचे को जाने को इषारा कर दिया। सायद हिमालय की गोद में रहने वाले इन मासूमों और हमारी भाशा में सही ढंग से तारतम्य नहीं बैठ पाया। कुछ कोत भी हुवी। रास्ते का कोई ठिकाना ना पा हम एक गधेरे के साथ ही उतरने लगे। कई जगहों में हम सभी को टार्जन भी बनना पड़ा। नीम अंधेरा होते-होते रास्ते के दीदार हो ही गए। हम रास्ते के बीचोंबीच में थे। तलबड़ा, भराकानी गांवों की सीमा से हम काफी नीचे आ गए थे।
      कुछ देर असमंझस की रही। नीचे कुंवारी गांव को ये सोच चलना षुरू किया कि रास्ते में कहीं भी टैंट लगा लेंगे। तीखे पहाढ़ के सीने को काट कर बनाया गया रास्ता बेहद संकरा व खतरनाक था। अंधेरे में दूर षंभू नदी के बहने की धीमी आवाज के साथ ही तेदुंवे की गुर्रराहट भी सुनाई पड़ रही थी। नौ बज गए थे। एक जगह पर दो पहाड़ियों का मिलन होने से वहां कुछ जगह ढलान लिए दिखी। कुंवारी अभी तीन किमी की दूरी पर था। ढलान में सुरक्षित ढंग से तंबू तानते के बाद सभी उसमें समा गए। एक सुरक्षा का सा एहसास मिला। नींद के आगोष में समाते ही तेदुंवे की गुर्रराहट भी गायब हो गई।
     सुबह मवेसियों के गले में बंधी घंटियों की टनटनाहाट नीचे घाटियों में फैले कोहरे में गूंज रही थी। दो परिवारों के मुख्या भरूवा बंदूक कंधे में डाले अपने कुनबे के साथ उन्हें हांक रहे थे। नजदीक आने पर अपनी यात्रा बावत् बता हमने उनकी जिज्ञासा षांत की। हमारे रात में यहां रूकने पर वो चिहुंके, ‘‘बब्बा य बिमदर धार मां तो बाघ रूनी। त्वैमि कसिक रैये यां। हिटो पे हिटो, हमल्ये मलि मार्तोली बुग्याल गोरू-बाछिनों कैं छोड़ ब्यालि तक ओंलू।’’
      पहाड़ के घेरे से बाहर निकल, कुंवारी गांव की सरहद में पहुंचे। तकली से ऊन कातते विजय राम मिले। उनसे बातचीत में मालूम हुवा कि ‘‘खुषाल सिंह दानू यहां 53 मवासों के प्रधान हैं। गांव में उपप्रधान केषर सिंह दानू के वहीं 08991325168 नं. का सैटेलाइट फोन लगा है। भेड़ का ऊन साल में दो कुंतल तक हो जाता है। जिसे कताई कर कंबल, कोट आदि बना काम में ले आते हैं। रू.15 किलो तक का ही बाजार भाव मिल पाता है। अब कातना कम ही कर दिया है सभी ने। गांव के बारे में बताते हुए बोले कि आधे-अधूरे नए बने जूनियर हाईस्कूल ही में बच्चे उधम मचाते हैं। हाईस्कूल का उच्चीकरण नेताओं के भाशणों तक ही सीमित रह गया है। प्राइमेरी स्कूल के तो दरवाजे बंद ही रहते हैं। जूनियर हाईस्कूल में मात्र परीक्षा संपन्न कराने को बागेष्वर से आने वाले मास्टर साहब ही प्राईमेरी की औपचारिकता भी निपटा जाते हैं। देवाल ही यहां की नजदीकी बाजार है। कुंवारी से झलिया, उपथर, चोटिंग, मानमति से खेता तक पैदल रास्ता है। वहां से मिलखेत, बोरगाड़ होते हुवे देवाल तक कच्ची सड़क है। ‘खेेता’ से जीप वाले रू.50 किराया लेते हैं। बागेष्वर दूर पड़ता है हमारे लिए। सिर्फ उत्तरायणी में ही जाना होता है उस ओर....।’’ विजयदा से खिचड़ी फिर दोबारा चखने के वादे पर हमने आगे की राह पकड़ी। मुख्य रास्ता टूटा था। टूटी सिचाई गूल को ही गांव वालों ने रास्ता बना दिया था। गांव का पंचायत घर भैंसों का आरामगाह बना दिखा। रास्ते में सीढ़ीनुमा खेतों में गोड़ाई करती बूढ़ी अम्मा की अपनी बहु के साथ फोटो खींचने की फरमाइष भी पूरी करनी पड़ी। नीचे बाखलीनुमा मकान में दलिप सिंह अपने पोते की अठखेलियों में मस्त थे। हमें देख हांक लगाई, ‘‘चा-पांणी पी जाओ हो।’’ उनकी बहू पानी ले आई। दलिप सिंह काफी लंबे अर्से से पेट की बीमार से ग्रस्त हैं। मंहगाई के जमाने में ईलाज के खर्चे से घबरा कर घर ही बैठे हैं। लड़का बाहर प्राईवेट नौकरी करता है। उनकी बहू जानकी, बधियाकोट में आषा कार्यकर्ती है। बीपीएल कार्ड होने के बावजूद भी योजनाओं व मिलने वाली सुविधाओं का उन्हें कुछ पता ही नहीं होने से हम चौंके। उन्हें योजनाओं के बावत् बता जल्द ईलाज कराने की सलाह दे हमने उनसे ‘चा’ फिर पीने का वादा कर विदा ली।

       षंभू नदी षांत सी बह रही थी। 2010 में आई बाढ़ ने इसमें बने पुल के पिल्लर ध्वस्थ कर दिए। इन्हें ठीक करने की कछुवा गति को देख लगता नहीं कि ये कभी ठीक हो पाएंगे। वैसे भी आपदा में ध्वस्थ सड़कों, पुलों, बिल्डिंगों आदि से ठेकेदारों को जो रोजगार मिलता है उससे वो ताउम्र अलग नहीं होना चाहते। यहां काम कर रहा नेपाली परिवार आज होली की मस्ती में चूर था। हमें देख वो ठिठक से गए। हमने उनके पत्थर से बने चुल्हे में थोड़ा पानी गर्म करने की इजाजत मांगी तो वे खुद ही चुल्हा जला पानी गर्म करने में लग गए। पानी गर्म हो चुका था। अपने नूडल्स के डिब्बों में गर्म पानी डाल हम उन्हें धन्यवाद दे जाने लगे तो सकुचाते से वो बोले, ‘भात-षिकार है, खा के जाओ साब्।’ हाथ हिलाते हुवे हम धीरे-धीरे विलाप गांव की चढ़ाई नापने लगे। थोड़ी चढ़ाई के बाद विलाप गांव आ गया। एक बाखली सी और दो अलग मकान दिखे। महिलाएं काम में जुटी पड़ी थी। धारे में प्यास बुझाने के बाद आगे बढ़ चले। किलोमीटर भर की चढ़ाई के बाद लमडर धार आया। किलपारा गांव को जा रहे इस रास्ते को देख एक बार को झुरझुरी सी हुई। रास्ता तिरछा व खतरनाक था। 80 डिग्री का किलोमीटर भर का ढ़लान लिए इस पहाड़ी में पेड़-पौंधों का नामोनिषान भी नहीं था। नीचे पिंडर नदी के किनारे किलपारा ग्राम सभा के ओगन व माणिक तोक भी सिमटे-सहमे से दिखे। दो किलोमीटर के बाद किलपारा गांव दिखा। गांव के मंदिर में होली की विदाई के साथ ही आलू, पूरी, हलवे का प्रसाद बंट रहा था। गलियों ने निकलते हुए हम गांव की सरहद को छूंकर बधियाकोट को बन रही धूल भरी सड़क में पहुंचे। पिंडर नदी पर बना पुराने पैदल पुल से देखा कि पिंडर आज खामोष सी बह रही है। इसका हरा पानी अपनी ओर खींच रहा था। आसमान में बादल घिरते देख नहाने की इच्छा छोड़नी पड़ी। पुल पार कच्ची सड़क के किनारे माईलस्टोन दिखा। तीख दो किमी। पीछे मुड़ कर देखा तो बदियाकोट चार किमी। तीख गांव को पार कर उनियां पहुंचे ही थे कि बारिष के साथ ही हल्की बर्फ पड़ने लगी। सड़क किनारे ही प्राईमरी स्कूल दिखा तो उसी की षरण में लपके। दरवाजे खुले थे। अंदर गए तो वहां भी बारिष आने पर उप्पर देखा तो कमरे की टिन की आधी छत गायब दिखी। बाहर आने पर स्कूल की हालत देख भौच्चका सा रह गए। किसी जबरदस्त तुफान ने स्कूल को तहस-नहस कर दिया था। टिन की छतें तुफान में  उखड़ने से मुड़ गई थी। पीछे से आया मलवा स्कूल के कमरों को तोड़ अंदर भरा था। हमें सौंग की याद हो आई। सौंग में 18 अगस्त 2009 को हुवे हादसे ने 18 मासूमों की जान ले ली थी। वहां भारी बारिष से पीछे की पहाड़ी से मलवा स्कूल के दो कमरों को तोड़ अंदर आ गया था। बहरहाल् हमें दूसरे दिन ग्रामीणों से पता लगा कि इस स्कूल को भी अगस्त 2009 की आपदा की मार पड़ी। सोराग की सभापति रूमली देवी विद्यालय के लिए जमीन देने को तैयार थी लेकिन ठेकेदार को उसमें अपना फायदा नहीं दिखा तो उसने अड़गां लगा दिया। नया स्कूल अब गांव के बड़े गधेरे के पार दूर बना है। बारिष में गधेरे में पानी आ जाने पर स्कूल में कोई नहीं जा पाता है। अब गांव वाले ठेकेदार को कोसने में लगे रहते हैं। लगभग 45 मवासों को अपने में समेटे उनियां गांव सोराग की ग्राम सभा है।      उनियां प्राथमिक विद्यालय के आगंन में ही जल्दी से टैंट लगाया ही था कि होली की मस्ती में कच्ची पीये, गजल सम्राट गुलाम अली का एक दिवाना आ टपका। वो ज्यादा गजलें नहीं सुना सका। बारिष ने उसे भागने पर मजबूर कर दिया। अंधेरा घिर चुका था। देर तक हो-हल्ले की आवाजें आती रही। सुबह बारिष थम चुकी थी। गांव धुला सा भला लग रहा था। टैंट व सामान पैक कर हमने आगे की राह पकड़ी।
  


होमकुनी बुग्याल के नीचे का बीहड़ रास्ता।
  कच्ची सड़क के साथ चलते हुवे विनायक धार पहुंचे। त्रिषूल, मृगथूनी, भानूटी आदि चोटियों का यहां से एक अलग ही नजारा देखने को मिला। विनायक धार में बचूली देवी का ढाबा है। 1983 की बाढ़ में कर्मी में उसका मकान बह गया था। उसके बाद विनायक धार में झोपड़ी बना उसने मजदूरों के साथ ही आने-जाने वालों के लिए नाष्ता-खाना बना अपनी गुजर बसर करनी जो षुरू की वो दिनचर्या उसकी अभी तक जारी है। बाढ़ से गांव में जो थोड़ी जमीन बच गई उसमें दुकान बना लड़का अपनी गृहस्थी चला रहा है। मैगी का नाष्ता कर पुराने पैदल रास्ते से नीचे कर्मी गांव की ओर चल पड़े। दूर कर्मी गांव के उप्पर कच्ची सर्पाकार सड़क में जीपों को रेंगते देख कदमों की रतार बढ़ाने का कोई फायदा नहीं रहा। सड़क में पहुचे तो देखा कि जीपों की छतों में भी लोग बैठे थे। पैदल ही सड़क नापनी षुरू की। घंटा भर चलने के बाद धूल उड़ाती यूटीलिटी वैन आई। खुली वैन में भेड़ों के ऊन से भरे बोरों में बैठने का सौभाग्य मिला। पेठी, चौढ़ास्थल, झंडीधार, लोहारखेत की कच्ची सड़क में हिचकोले लेती वैन के सौंग में सुरक्षित पहुंचने पर राहत की सांस ली। सौंग में भराड़ी के लिए जो जीप तैयार थी उसे देखकर लगा कि वो अपनी उम्र बहुत पहले पार कर चुकी होगी। लेकिन विकास की परिभाशा से कोसों दूर इन पहाड़ी क्षेत्रों में इन्हीं का ही एक मात्र सहारा होता है।
       पर्यटन के नाम पर विकास का ढिंढोरा पीटती सरकार और उसके नुमाइंदो द्वारा उत्तराखंड की जो गत् की जा रही है उससे पर्यटन में तेजी आ पाना तब तक संभव नहीं है जब तक कि पर्यटन क्षेत्रों को जोड़ने वाले मार्गों का हाल ठीक नही होगा। हमारे साथी दरबानदा कि इन पर ये टिप्पणी सटीक सी बैठती लगी कि,
‘‘मुल्ला, मिसर, मसालची, तीनों बड़े षैतान।
औरों को दिखाएं चांदना, खुद अंधेरा जा
न।’’

Friday, November 18, 2011

उत्तराखंड लोकायुक्त अधिनियम कुछ मामलों में है बहुत कमजोर

अधिनियम का एक प्रावधान असंवैधानिक करार

विशेषज्ञ का दावा अधिनियम कभी लागू नहीं हो सकेगा

मंत्री, विधायक या बड़े अधिकारी के लोकपाल के दायरे में नहीं

लोकपाल बिल को लेकर वरिष्ठ अधिवक्ता नदीमउद्दीन से खास बातचीत

                                                  (रुद्रपुर से जहांगीर राजू)

 भ्रष्टाचार नियंत्रण के लिये उत्तराखंड लोकायुक्त अधिनियम विधानसभा से पारित कराने का बहुत शोर है यहां तक कि अन्ना टीम भी इसका स्वागत करते नहीं थक रही है लेकिन अगर इसे ध्यान से देखे तो न सिर्फ इसके कुछ प्रावधान अत्यन्त कमजोर तो हैं ही साथ ही एक प्रावधान तो असंवैधानिक भी है। वर्तमान परिस्थितियां यह बता रही है कि यह अधिनियम कभी भी लागू नहीं हो सकेगा।
 उत्तराखंड लोकायुक्त अधिनियम 2011 की धारा 1(2) के अनुसार अधिनियम राज्यपाल की अनुमति के 180 दिन के अन्दर लागू हो जायेगा। अगर इस बीच शीतकालीन सत्र में केन्द्र लोकायुक्त के प्रावधानों को शामिल करके लोकपाल कानून पास करके लागू कर देता है वह प्रभावी होगा और यह अधिनियम कभी लागू नहीं हो पायेगा।
 कानून विशेषज्ञ तथा भ्रष्टाचार निवारण व सूचना अधिकार सहित 35 कानूनी पुस्तकों के लेखक नदीम उद्दीन एडवोकेट के अनुसार कमजोर प्रावधानों में धारा 4(8), धारा 5(ड़) (थ), धारा 7(4), 7(7), धारा 9 तथा 18 के प्रावधान शामिल हैं। यद्यपि मजबूत प्रावधानों में धारा 2(ड़), 4(7), 4(9), 5, 6, 8, 10, 11(6), 12,15, 24, 25, 26, 28, से 32 तथा धारा 34 के प्रावधान शामिल है।
 धारा 4(8) के प्रावधान के कारण अब लोकायुक्त तथा मुख्य लोकायुक्त बनने के लिये हाईकोर्ट का जज रहने की बाध्यता नहीं है कोई भी हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में 20 साल से प्रैक्टिस करने वाला अधिवक्ता भी लोकायुक्त तथा मुख्य लोकायुक्त हो सकता है। इस प्रकार सभी लोकायुक्त ऐसे व्यक्ति हो सकते है जो कभी न्यायाधीश न रहे हों।
 धारा 5(ड़) के अन्तर्गत भ्रष्ट रीति से प्राप्त पट्टा, अनुज्ञा, अनुमति, संविदा करार निरस्त करने की संस्तुति करने की लोकायुक्त को शक्ति तो दी गयी है लेकिन लोक प्राधिकारी को उसकी संस्तुति एक माह के अन्दर कारण सहित निरस्त करने का भी अधिकार दिया गया है। इसके विरूद्ध लोकायुक्त को निर्देश के लिये हाईकोर्ट जाना होगा। इसी प्रकार धारा 5(थ) में भ्रष्टाचार कम करने के लिये संस्तुति करने का लोकायुक्त को अधिकार दिया गया है लेकिन इसे भी स्वीकार न करने पर कारण सहित अनुपालन रिपोर्ट भेजी जा सकती है।
 इसी प्रकार धारा 9 के अन्तर्गत भ्रष्टाचार के विषय को रोकने की संस्तुति करने की लोकायुक्त को शक्ति दी गयी है लेकिन इसे भी मानने को लोक प्राधिकारी (विभाग/संस्था) बाध्य नहीं है। वह इसे खारिज करके कारणों सहित 15 दिन में लोकायुक्त का सूचित कर सकता है जिसके विरूद्ध लोकायुक्त को हाईकोर्ट की शरण लेनी होगी।
 धारा 7(4) अत्यन्त खतरनाक धारा है जिसके अन्तर्गत लोकायुक्त को अप्रत्यक्ष रूप से किसी भी शिकायत को सुनवाई हेतु स्वीकार करने या न करने का विवेकाधिकार दे दिया गया है। इसके अनुसार लोकायुक्त शिकायतकर्ता को अन्य अनुतोष उपलब्ध होने के आधार पर अन्वेषण से इंकार कर सकता है। भ्रष्टाचार के प्रत्येक मामले में पुलिस में एफ.आई.आर. दर्ज कराने, न्यायालय में सीधे मुकदमा दर्ज कराने का अनुतोष उपलब्ध रहता है। ऐसी अवस्था में लोकायुक्त मनमाने तरीके से किसी भी शिकायत पर जांच से इंकार कर सकेगा।
 श्री नदीम के अनुसार अभी तक लोकायुक्त को किसी भी मंत्री, विधायक या शासन के कितने बड़े स्तर के अधिकारी के विरूद्ध शिकायत पर जांच करने का अधिकार है लेकिन नये लोकायुक्त अधिनियम लागू होने पर यह सीधे संभव नहीं होगा। जहां धारा 18 के अनुसार मुख्यमंत्री, मंत्री तथा विधानसभा सदस्यों के विरूद्ध अन्वेषण या अभियोजन लोकायुक्त के अध्यक्ष सहित सभी सदस्यों की पीठ की अनुमति के बाद ही प्रारम्भ होगी। इसी प्रकार धारा 7(7) के अनुसार सरकार के सचिव एवं उससे ऊपर के प्रकरण में जांच या मुकदमा लोकायुक्त के दो सदस्य व अध्यक्ष की पीठ की अनुमति के बाद ही प्रारम्भ होगा।
 इसके अतिरिक्त धारा 12 के अनुसार लोकायुक्त के अध्यक्ष या सदस्यों को उसके पद से किसी व्यक्ति की शिकायत पर सुप्रीम कोर्ट की जांच के पश्चात ही हटाया जायेगा। धारा 12 से सुप्रीम कोर्ट को अतिरिक्त शक्तियां दी गयी है। ऐसी शक्तियां भारतीय संविधान अनुच्छेद 138 व 140 के अन्तर्गत संसद से पारित कानून के द्वारा ही दी जा सकती है। राज्य विधान सभा से पारित कानून द्वारा ऐसा करना असंवैधानिक है। इसलिये यह प्रावधान असंवैधानिक है।
 किसी भी राज्य द्वारा पारित कानून को राज्यपाल द्वारा कानून पास करने के बाद केन्द्र को भेजे जाने का कोई प्रावधान संविधान में नहीं है। इसलिये ऐसा करना लोकायुक्त अधिनियम को लटकाने का भी एक तरीका माना जा सकता है।


     

      

Thursday, October 6, 2011

दंगों की सियासत ने सवालों को जला डाला.

कर्यू में मिली ढील ने दिलायी गदर की याद

बारह हजार से अधिक लोगों ने रुद्रपुर छोड़ा

सपरिवार उत्तराखंड की सीमा से यूपी को हुए रवाना

                (रुद्रपुर से जहांगीर राजू)     

शहर में कर्यू के दौरान मिली ढील ने एक बार फिर से गदर की याद ताजा कर दी। इस दौरान शहर से ढाई हजार से अधिक परिवार अपना सारा सामान व बच्चों को लेकर यूपी की सीमा को रवाना हुए। इस दौरान यूपी की सीमा पर ऐसा मंजर था कि लोग मानों लोग एक देश की सीमा छोड़ दूसरे देश की ओर जा रहे हों। इसमें से कुछ परिवार रुद्रपुर शहर को अलविदा कहते हुए हमेशा के लिए यहां से चले गए।
 भारत पाक विभाजन की घटना देश के इतिहास की इतनी बड़ी घटना थी कि जिसमें लाखों की संख्या में लोगों ने पलायन किया। इस दौरान लाखों परिवार अपना मूल्क छोडक़र बेवतन हुए। भारतीय इतिहास की इस दुखद घटना को गदर का नाम भी दिया गया। बुधवार को रुद्रपुर शहर में लगातार चार दिन तक के  कर्यू के बाद मिली दो घंटे की ढील के दौरान उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश की सीमा पर ऐसा ही मंजर देखा गया। जहां दो हजार से अधिक परिवारों ने रुद्रपुर को अलविदा कहते हुए उत्तर प्रदेश के लिए रवाना हुए। होने को तो इन लोगों ने अपने की देश के किसी दूसरे राज्य में प्रवेश किया, लेकिन रुद्रपुर शहर से दंगे के बाद हुआ इतनी बड़ी संख्या में पलायन हमारे लिए कई सवाल छोडक़र गया है। इस पलायन ने जहां कई परिवारों के सपनों को अधूरे में तोडऩे को मजबूर कर गया तो किसी को अपना रोजगार व करोबार छोडक़र यहां से जाने को मजबूर किया।
जनकवि जहूर आलम की कविता भी हमें इस सवालों से रुबरु कराती है। जिसमें उन्होंने लिखा है

दंगों की सियासत ने सवालों को जला डाला,
कलियों को मसल डाला, बागों को जला डाला,
एक भूख बिलखती थी लिपटी हुई छाती से,
गुदड़ी में छिपे कितने लालों को जला डाला,
मजहब के लूटेरों ने, नापाक अंधेरों ने,

बस्ती के मेरे सारे उजाले को जला डाला,
छुप छुपके मिलते थे, दो ख्वाब मचलते थे,
 उन नर्म से ख्वाबों को खयालों को जला डाला

इसी तरह से बुधवार को हजारों परिवार अपने जले हुए सपनों को लेकर रुद्रपुर को हमेशा के लिए अलविदा कहकर चले गए। रामपुर निवासी रहमान ने बताया कि रुद्रपुर में कारपेंटर का काम करते थे। लेकिन यहां हुए दंगों ने उनके परिवार को डराकर रख दिया है। इसीलिए अब वह अपना सारा काम छोडक़र हमेशा के लिए यहां से जा रहे हैं। उनका परिवार अब  कभी लौटकर वापस रुद्रपुर नहीं आएंगे। बहेड़ी निवासी रामपाल ने बताया कि वह सिडकुल में मजदूरी करते हैं। परिवार के साथ रम्पुरा में रहते हैं, लेकिन इन दंगों ने उन्हें इस शहर को हमेशा के लिए छोडऩे को मजबूर किया है। इसी तरह से कई राम, रहीम व रामपाल के परिवारों ने रुद्रपुर को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। इन गरीब लोगों के शहर छोडऩे के कोई मायने नहीं हो सकते हैं, लेकिन इस तरह से हजारों लोगों के पलायन ने जो सवाल हमारे बीच छोड़े हैं उसके जबाव देने के लिए भी यहां के सियासी लोगों को तैयार होना होगा, नहीं तो हमें फिर से इस तरह के गदर व पलायन के लिए तैयार होना होगा।




Friday, September 23, 2011

उत्तराखंड से भारतीय क्रिकेट को मिला एक ओर सितारा


भारतीय क्रिकेट टीम को नई पहचान दिलाने की तमन्ना

जूनियर इंडिया के कप्तान उन्मुक्त चंद से बातचीत

रुद्रपुर। जहांगीर राजू

भारतीय क्रिकेट टीम को नईं ऊंचाईयों को पहुंचाने वाले उत्तराखंड मूल के महेन्द्र सिंह धौनी के बाद राज्य से भारतीय क्रिकेट को उन्मुक्त चंद के रुप में एक और सितारा मिला है। उन्मुक्त 27 सितंबर से विशाखापट्टनम् में होने वाली चार देशों की वाडरेंगुलर सीरीज में जूनियर इंडियन क्रिकेट टीम का प्रतिनिधिव करेंगे। उन्मुक्त की तमन्ना है कि वह सीनियर क्रिकेट टीम में शामिल होकर भारतीय क्रिकेट को नईं ऊंचाईयों तक पहुंचाएं।
नेशनल क्रिकेट अकादमी बैंग्लुरु में प्रशिक्षण कैंप कर रहे उन्मुक्त ने दूरभाष पर बातचीत में कहा कि जूनियर सीनियर इंडियन क्रिकेट टीम का प्रतिनिधिव उत्तराखंड मूल के दो खिलाडियों के हाथों पर होना उत्तराखंड के लिए गर्व की बात है। उन्होंने बताया कि 27 सितंबर से विशाखापट्टनम् में होने वाली चार देशों की वाडरेंगुलर सिरीज में भारतीय जुनियर क्रिकेट टीम का प्रतिनिधिव करेंगे। जिसके लिए वह वर्तमान में नेशनल क्रिकेट अकादमी बैंग्लुरु में कैंप कर रहे हैं। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद वह 23 सिंतबर को विशाखापट्टनम् के लिए रवाना होंगे। इस सिरीज में आस्ट्रेलिया, वेस्टेंडिज, श्रीलंका इंडिया की टीम प्रतिभाग करेगी। प्रतियोगिता में पहला मुकाबला 27 सितंबर को भारत वल आस्ट्रेलिया के बीच खेला जाएगा। उन्होंने बताया कि इस मुकाबले में भारतीय टीम सबसे मजबूत दावेदार के रुप में उभरकर सामने आएगी। उन्मुक्त ने बताया कि वह दिल्ली के टीम से बतौर ओपनर बल्लेबाज के रुप में खेलते हैं। आईपीएल में उन्होंने दिल्ली डेयरडवेल्स की टीम से चार मैच खेले। राइट आर्म बल्लेबाज होने के साथ ही वह आफ स्पीनर बॉलर भी हैं। उन्हंे जूनियर इंडिया की टीम में पिछले सत्र में सबसे अधिक रन बनाने का गौरव प्राप्त है। साथ ही रणजी ट्राफी के 5 मैचों में उन्होंने 400 रन बनाकर सर्वेश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। जिसमें उनकी रेलेवेे के खिलाफ 15 रन की पारी भी शामिल है। उन्हें आईपीएल में सबसे कम उम्र के खिलाड़ी के रुप में शामिल होने का भी गौरव प्राप्त है।
गांव की यादों से जुड़ा उन्मुक्त

रुद्रपुर। मूलरुप से पिथौरागढ़ जिले के खडकू भल्या निवासी 18 वर्षीय उन्मुक्त चंद की यादें आज भी उनके गांव से जुड़ी हुई हैं। उनके पिता भरत चंद ठाकुर ने पिथौरागढ़ डिग्री कालेज से पढ़ाई की। वर्तमान में वह दिल्ली स्थित सरकारी कालेज में प्राध्यापक हैं। उन्मुक्त अब भी हर साल अपने पिता के साथ साल में एक बार गांव जरुर जाता है। उसे गांव के बच्चों के साथ खेतों में क्रिकेट खेलना हमेशा याद रहता है। उन्मुक्त का कहना है कि वह चाहे जिस मुकाम तक भी पहुंचे, लेकिन वह हमेशा अपने गांव से जुड़े रहेग

खेल के साथ पढ़ाई भी जरुरी

रुद्रपुर। कड़ी मेहनत कर क्रिकेट में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाले उन्मुक्त बताते हैं कि खेल के साथ पढ़ाई भी जरुरी है। इस वर्ष उन्होंने इंटरमीडिएट की परीक्षा 70 फीसदी अंकों के साथ उत्तीर्ण की। वर्तमान में वह दिल्ली के प्रतिष्ठित सेेंट स्टीफन कालेज में बीए प्रथम वर्ष के छात्र हैं। उन्मुक्त बताते हैं कि वह क्रिकेट के साथ ही फिटनेश, योगा पढ़ाई पर भी खास ध्यान देते हैं।

















Friday, August 19, 2011

हथियार खरीदने के लिए सहजनवा में लूटी थी ट्रेन

अंग्रेजों ने तीन बार सुनायी थी कालापानी की सजा

जेल में थे तो पत्नी व बेटी की हो गयी थी मौत

स्वतंत्रता सेनानी भगवान प्रसाद शुक्ला से संस्मरण
                 
                                (रुद्रपुर से जहांगीर राजू)

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भगवान प्रसाद शुक्ला
शहीद भगत सिंह, अशफ़ाक उल्ला खां, राम प्रसाद बिस्मिल के आजादी के सपने को आगे बढ़ाने के लिए सशस्त्र क्रांति के जरिए आजादी के आंदोलन में कूदे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भगवान प्रसाद शुक्ला ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर सहजनवा में ट्रेन रोक कर सरकारी खजाने से 10 हजार रुपये लूट लिए थे। जिसके बाद उन्होंने आजादी के लिए सशस्त्र संघर्ष को आगे बढ़ाया।  गांधी जी के सत्याग्रह से अंग्रेजों को कभी भी कोई भय नहीं रहा। देश की वर्तमान हालत को देखते हुए निराशा भरे शब्दों में वह कहते हैं कि देश को आज भी वास्तविक आजादी नहीं मिली। इस आजादी से उन्हें सिर्फ जेल से बाहर आने का मौका मिला, लेकिन शहीद आंदोलनकारियों के सपने अबतक पूरे नहीं हो पाए हैं। वह कहते हैं कि शहीद भगत सिंह व मार्क्स के साम्यवाद के रास्ते पर चलकर ही देश में अमीरी व गरीबी के बीच की दिवार को समाप्त कर असली आजादी प्राप्त की जा सकती है। देश में जब तक लोगों के पास व्यक्तिगत संपत्ति रहेगी तब तक  यह लड़ाई चलते ही रहेगी। वह कहते हैं कि भ्रष्टाचार आजादी का सबसे बड़ा दुश्मन है। वह देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ चलने वाले हर संघर्ष का समर्थन करते हैं। वह कहते हैं कि देश को भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलाने के लिए फिर से एक आंदोलन की जरुरत है। युवा इस आंदोलन को आगे बढ़ाकर देश को भ्रष्टाचार से मुक्ति दिला सकते हैं।
शहीद भगत सिंह का नाम जुबां पर आते ही 95 वर्षीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भगवान प्रसाद शुक्ला के आखों में आंसू आ जाते हैं। वह बताते हैं कि भगत सिंह से प्रेरणा लेते हुए ही उन्होंने 23 मार्च 1942 को उनके शहादत दिवस पर गोरखपुर जिले के सहजनवा क्षेत्र में अपने मित्र हरि प्रताप तिवारी, बाल स्वरुप शर्मा, कैलाश पति मिश्रा व बनारस से आए दो क्रांतिकारियों के साथ मिलकर ट्रेन को लूटा था। इस ट्रेन से लूटे 10 हजार रुपये से उन्होंने हथियार खरीदर सशस्त्र क्रांति के आंदोलन को आगे बढ़ाया था। इस दौरान अंग्रेज सरकार ने उनपर मुकदमा चलाकर उन्हें तीन बार कालापानी की सजा सुनायी। सहजनवा कांस्प्रेसी, सहजनवा ट्रेन लूटकांड व लखनऊ कांस्प्रेसी के लिए उन्हें 75 साल जेल में रहने की सजा सुनायी गयी। इसके बाद से ही वह जेल से फरार चल रहे थे। 1943 में गिरतार होने के बाद वह पांच साल तक बरेली व लखनऊ जेल में रहे। इस दौरान उनकी पत्नी राजपति व सात माह की बेटी की मौत हो गयी। घर में हुए इस दुखद हादसे ने उन्हें हिलाकर रख दिया। बावजूद इसके वह जेल में रहकर ही साथियों की मदद से आंदोलन को आगे बढ़ाते रहे। भगवान प्रसाद शुक्ला कहते हैं कि शहीद भगत सिंह व सुभाष चन्द्र बोस के आंदोलन के जरिए ही देश को आजादी मिली।

Wednesday, July 27, 2011

तराई की बेटी ने जमाया अमेरिका में कारोबार

कड़े संघर्ष के बाद आईटी कंपनी की मालकिन

रुद्रपुर। जहांगीर राजू

रुद्रपुर में पढ़ी-बढ़ी रसनीत कौर आज एक अमेरिकन आईटी कंपनी की मालिक है। अमेरिका और यूरोप में पैर जमाने के बाद रसनीत अब भारत में अपनी कंपनी को विस्तार दे रही है। चंडीगढ़ मंे उन्होंने इसके लिए बाकायदा दफ्तर खोल दिया है। यहां काम करने वाले 30 युवा रसनीत के सपने को सच करने में जुटे हुए है।

एक निजी स्कूल के कार्यक्रम में भाग लेने आई रसनीत ने बाताया कि उनके पिता यहां ऊधमंिसंहनगर और रामपुर के बॉर्डर पर स्थित चड्डा पेपर मिल में जीएम रहें। रसनीत की इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई रुद्रपुर के जेसीज पब्लिक स्कूल में हुई। 1997 में रुद्रपुर मंे इंटर की पढ़ाई पूरी करने के बाद रसनीत ने अर्थशास़्त्र में एमए और फिर एमबीए किया। आईटी की दूर-दूर तक कोई समझ न होने के बावजूद रसनीत ने 2002 में अमेरिका में बेल्वो के नाम से आईटी कंपनी शुरू की।  अमेरिका के डेलोस शहर में इसका मुख्यालय बनाया। रसनीत बताती है कि कंपनी को अपने पैरों में खड़ा करने के लिए उन्होंने 10 साल मेहनत की। आखिर मेहन रंग लायी और आज वह आईटी आटोमिशन के साथ प्रिंट व मेल इंडस्ट्री के क्षेत्र में काम कर रही है।
इस समय वह जिराक्स समेत दुनिया की 500 कंपनियों के बाद यूरोप में  अपनी कंपनी का काम बढ़ाने के बाद रसनीत ने अब चंडीगढ़ में भी अपना दफ्तर बना लिया है। इस दफ्तर में उन्होंने 30 से अधिक युवाओं को रोजगार दिया है।
उत्तराखंड से जुड़े रहने की तमन्ना
रसनीत कहती है, आज जो भी हू, उसमें रुद्रपुर और उत्तराखण्ड का विशेष योगदान है। इसलिए उत्तराखण्ड में कंपनी का काम शुरू करके यहां की सेवा करने की तमन्ना है। उन्हांेने कहा कि उत्तराखंड में औद्योगिक विकास के साथ ही आईटी इंडस्ट्री के विकास की काफी संभावना है। सरकार को चाहिए  की वह बड़ी आईटी कंपनियों को निवेश के लिए यहां आकर्षित करें।

Friday, July 8, 2011

विधवा को परिवार बसाने की इजाजत क्यों नहीं ?

चंडीपुर गांव में विधवा हुई युवक के साथ जान देने को  मजबूर
                                                            
                                                   (रुद्रपुर से जहांगीर राजू)

शीला
 चंडीपुर गांव में हुई प्रेमी युगल की आत्महत्या की घटना कई सवाल छोडक़र गयी है। इस घटना से जहां बेगुनाह हरिदासी हाथ की मेहंदी सुखने से पहले ही बेवा हो गयी वहीं शीला की मौत से उसकी पांच साल की बच्ची हमेशा के लिए अनाथ हो गयी है। यह घटना एक विधवा महिला को बहु के रुप में स्वीकार नहीं करने वाली सामाजिक मान्यताओं को कटघरे में खड़ा कर गयी है। साथ ही यह सवाल भी छोड़ गयी है कि विधवा महिला को परिवार बसाने की इजाजत क्यों नहीं है।
चंडीपुर गांव के युवक प्रशान्त का अपराध यही था कि उसने गांव की विधवा महिला शीला से प्रेम किया था।  प्रशान्त का यह रिश्ता न तो उसके परिजनों को स्वीकार था और नहीं समाज के लोग इस रिश्ते के पक्ष में थे। जिसके चलते प्रशान्त के परिजनों ने उसका हरिदासी से जबरन विवाह करा दिया। लोक लाज के चलते प्रशान्त वैवाहिक कार्यक्रम में तो शामिल हो गया, लेकिन वह अपने नए साथी के साथ दो गज का फासला तक तय नहीं कर पाया। जिसके चलते उसने शीला के साथ मिलकर सल्फास खा लिया और दोनों इस दुनिया को हमेशा के लिए छोडक़र चले गए। दोनों की मौत के बाद प्रशान्त की पत्नी हरिदासी व शीला की पांच साल की बेटी काली सामाजिक मान्यताओं के भेंट चढ़ गए हैं, जहां एक विधवा महिला को परिवार बसाने की इजाजत नहीं दी जाती है।  
प्रशान्त
   गांव के युवा परितोष मंडल कहते हैं कि यदि शीला व प्रशान्त का विवाह हो गया होता तो आज नहीं हरिदासी विधवा होती और नहीं काली को अनाथ बनना पढ़ता। प्रशान्त व शीला के रिश्ते से मासूम बच्ची काली को नया जीेवन मिलता। लेकिन समाज के लोगों ने दोनों के रिश्ते को आगे नहीं बढऩे दिया। समाज के लोगों ने ऐसे रिश्ते को अपनाया, जिसमें दो लोग हमेशा के लिए बेसहारा हो गए हैं, लेकिन उस रिश्ते को परवान नहीं चढऩे दिया जिससे पांच साल की बच्ची काली को नया जीवन मिलता। परिमल राय कहते हैं कि प्रशान्त व शीला की मौत हमेशा सामाजिक मान्यताओं की दुहाई देने वाली व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर गयी है।
हरिदासी
 प्रशान्त व शीला की मौत से जहां युवा पीढ़ी नई दिशा में सोचने को मजबूर है वहीं सामाजिक मान्यताओं की बात करने वाले लोगों ने आज भी इस घटना से कोई सबक नहीं लिया है। इस प्रकार देखा जाए तो इस घटना से सबक लेते हुए समाज के लोगों ने नई व्यवस्था को कायम करने की पहल के लिए आगे आना होगा। जहां फिर से ऐसे रिश्ते को बढ़ावा नहीं दिया जाए जहां काली जैसी मासूम बच्ची फिर से अनाथ न हो और फिर से कोई विवाहिता हाथों की महेंदी उतरने से पहले बेवा हो जाए।


शीला के साथ काली
   असफलता बना अवसाद का कारण

रुद्रपुर। मनोवैज्ञानिक डा. रेखा जोशी बताती हैं कि विधवा को जीवन साथी बनाने का सपना देखने वाले युवा को समाज से मिले तिरस्कार के चलते उसे मिली असफलता ही उसके अवसाद का कारण बनी। जिसके चलते दोनों ने समाज से संघर्ष करने के बजाए गहरे अवसाद में आकर खुदकुशी कर ली। वह कहती हैं कि इस तरह की घटनाओं के लिए हमेशा सामाजिक व पारिवारिक स्थितियां जिम्मेदार होती हैं। इन दोनों के रिश्ते को यदि सामाजिक व पारिवारिक मान्यता मिल गयी होती तो शायद इस घटना से बचा जा सकता था। इस तरह की घटनाएं हमें सामाजिक मान्यताओं का फिर से मूल्यांकन करने की ओर प्रेरित करती हैं।


Thursday, July 7, 2011

उम्मीद जगाता ”टेंशन प्वाइंट“

- चार सौ से अधिक समस्याएं हो चुकी हैं प्रदर्शित

- टेंशन प्वाइंट नाम से ब्लॉग भी बनाया

चंदन बंगारी रामनगर

पैसे के पीछे अंधी दौड़ इंसान को अपने इर्द गिर्द फैले हुए भ्रष्टाचार व व्यवस्था की विसंगतियों के प्रति जान बूझकर भी अनजान बना रही है, वहीं संवेदनहीनता के दौर में भी कुछ लोग अपने विचारों की अलख से ठहरे हुए पानी में हलचल पैदा करने की कोशिश में जुटे हुए हैं।
अल्मोड़ा जिले के भिक्यासैंण निवासी शंकर फुलारा भी उन्हीं में एक हैं, जिन्होने अपने कस्बे में टेंशन प्वाइंट नाम के प्रयोग के जरिये जमाने के दर्द व व्यवस्था में पनप रहे भ्रष्टाचार को उजागर करने का अभियान छेड़ा हुआ है। दरअसल उनका यह टेंशन प्वाइंट और कुछ नहीं बल्कि कस्बे के बड़ियाली तिराहे पर लगा एक नोटिस बोर्ड है, जिसमें जनसमस्याओं के विवरण, सरकारी मशीनरी की बेरूखी और राजनीतिबाजों के झूठे वादों पर तीखे तंज कसे जाते हैं। जनता के बीच लोकप्रिय टेंशन प्वांइट पर लिखी इबारतों का तुरंत असर भी होता है। बीते पांच सालों से अब तक टेंशन प्वांइट में चार सौ से ज्यादा मुददे उठाए जा चुके हैं।
टेंशन प्वाइंट की शुरूआत के बारे में शंकर कहते हैं कि सितंबर 2006 में सरकार के प्रयासों से लगे चिकित्सा शिविर में कई डाक्टर पहुंचे थे। लेकिन अस्पताल में डाक्टर मौजूद नही थे। उन्होंने बाजार के चौक पर टेंशन प्वाइंट का बोर्ड लगाकर  पोस्टर लगाया ”सरकार जब चिकित्सा शिविर लगा सकती है तो दाल, आलू, सड़क, तेल, बिजली शिविर भी लगाने की जरूरत है“। इस पहल को जनता की सराहना मिलने के बाद टेंशन प्वाइंट का सफर अनवरत चल रहा है। वह बताते है कि 2008 में बैंक द्वारा ग्रामीणों को कागज पूरे होने के बावजूद लोन नहीं देने पर टेंशन प्वाइंट में लिखा कि ”सरकार ने योजनाएं लोगों को फंसाने के लिए बनाई हैं, भला हो बैंक कर्मियों का जो लोन नहीं देते है“। समस्या प्रदर्शित होने के फौरन बाद व्यवस्था सुधर गई।
पानी, बिजली, सड़क, पेंशन जैसी कई समस्याएं बोर्ड में प्रदर्शित होने पर अधिकारी उसका निदान करने लगे। पोस्टरों में स्थानीय समस्याओं, बुराईयों, पर्यावरण संरक्षण सहित राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय घटनाक्रमों को रखने केअलावा नेताआंे की कार्यप्रणाली पर जमकर कटाक्ष किया जाता पोस्टर लगते ही उसे पढ़ने वालों की भीड़ जमा हो जाती है। यहां नये पोस्टर के लिए लोगों में उत्सुकता बनी रहती है, लोगों को टेंशन प्वाइंट अपनी समस्याओं के समाधान का सहारा लगने लगा है।
 वह .tensionpoint.blogspot.com  नाम से ब्लॉग भी चलाते है। भिक्यासैंण जैसे पहाड़ी कस्बे में भले ही इस पहल ने ज्यादा सुर्खियां नहीं बटोरी हों, मगर उनका टेंशन प्वाइंट इलाके में चर्चित है।   सरकारी अधिकारियों के रवैये व भ्रष्टाचार से त्रस्त लोगों के लिए टेंशन प्वाइंट आशा की किरण है।